शासकीय महाविद्यालय रहली की स्थापना १९८३ में १०० छात्रों के साथ प्रारंभ हुई थी वर्तमान में कला एवं स्ववित्तीय योजना के अंतर्गत संचालित विज्ञानं संकाय में लगभग ११०० छात्र/छात्रायें अध्ययन कर रहे हैं | महाविद्यालय में बी. ए ., बी.एस.सी. तथा एम.ए . ( हिंदी, अर्थशास्त्र, राजनीति शास्त्र, समाज शास्त्र ) के पाठ्यक्रम संचालित है |

               महाविद्यालय ने अपने स्थापना काल से आज तक शैक्षणिक, सशैक्षणिक, प्रशासनिक तथा अन्य रचनात्मक गतिविधियों में क्रम्वाद्ध प्रगति करते हुए उल्लेखनीय उपलब्धियां हासिल की हैं |

               सुदूर ग्रामीण अंचल के छात्र / छात्राओं को कंप्यूटर ज्ञान में दक्षता प्राप्त करने हेतु सेडमेप के माध्यम से डी. सी. ए . एवं पी. जी. डी. सी. ए . पाठ्यक्रम संचालित हैं |

               उच्च शिक्षा संस्थाओं का उद्देश्य समग्र व्यक्तित्व विकास के लिए उन्हें पारम्परिक उच्च शिक्षा के साथ अन्य दक्षताएं प्रदान करना हैं | संस्था में इन्ही उद्देश्यों को ध्यान में रखते हुए अध्ययन कराया जाता है जिससे छात्रों का सर्वांगीण विकास किया जा सके | उच्च शिक्षा समय के साथ परिवर्तित हुई इसलिए आवश्यकता है कि उसे रोजगारोन्मुखी बनाया जाये, इस उद्देश्य कि पूर्ती हेतु संस्था में रोजगार प्रकोष्ठ की स्थापना की गई है जिससे उन्हें स्वरोजगार प्राप्त करने के लिए मार्गदर्शन प्राप्त हो सके तथा रोजगार के नए अवसर समय सीमा में खोजने में सहयोग प्राप्त हो सके | महाविद्यालय में भोज विश्वविद्यालय द्वारा संचालित कंप्यूटर शिक्षा के लिए डिप्लोमा कोर्स की व्यवस्था की गई है जिससे महाविद्यालय में अध्ययन कर रहे गरीब एवं ग्रामीण छात्र लाभान्वित होते हैं |

               महाविद्यालय की विभिन्न गतिविधियों के संचालन एवं क्रियान्वयन हेतु ३८ समितियों का गठन किया गया है | छात्राओं को आत्मरक्षा हेतु कराटे शिविर लगाकर प्रशिक्षण दिया जाता है | रास्ट्रीय सेवा योजना की गतिविधियों में जैसे वृक्षारोपण, हरियाली महोत्सव, साफ़ - सफाई इत्यादि के साथ साथ अन्य सांस्कृतिक कार्यक्रमों का आयोजन किया जाता है छात्र / छात्राये उत्साहपूर्वक भाग लेते है |

               स्थिर जल प्रदूषित होकर जीवन गतिविधियों को अवरुद्ध कर देता है लेकिन हमारा महाविद्यालयीन स्टाफ स्वच्छ, निर्मल, एवं बहते हुए जल की तरह गतिशील रहकर शाशन की मंशानुसार छात्र / छात्राओं एवं महाविद्यालय के बहुमुखी विकास तथा प्रगति के लिए सदैव कटिबद्ध रहेगा |

You Are Our Valuable Visitor No :    Number of Visitor